औरतों की हत्या करके उनके शरीर के टुकड़े

0
27

केरल में हुई नरबलि की घटना से पूरा देश सकते में है जहाँ दो औरतों की हत्या करके उनके टुकड़े कर दिए गए इस घटना से जुड़ी बहुत सी जानकारी अब धीरे धीरे सामने आ रही है इस बीच केरल पुलिस की जांच पड़ताल जारी है

लेकिन पीड़ित परिवारों का क्या कहना है? जांच किस दिशा में जा रही है?

  • बेटे का कहना हे की हम लोगों को हर रोज़ कॉल किया करती थीं छब्बीस तारीख को उन्होंने कॉल नहीं किया हमने इस पर बहुत ध्यान नहीं दिया सत्ताईस तारीख को हमने उन्हें कॉल किया लेकिन उन्होंने हमारा फ़ोन नहीं उठाया हमने अपनी आंटी को चेक करने को कहा वह घर पर नहीं थी तब जाकर हमें पता चला कि माँ मिसिंग है हमने उस दिन इंतजार किया वह नहीं लौटी ठीक उसी दिन हमने अपनी आंटी को कड़ा बंथरा पुलिस स्टेशन भेजा और शिकायत दर्ज कराने को कहा, लेकिन बहुत कुछ पता नहीं चला इसके बाद उन्होंने सीसीटीवी फुटेज खंगाले फिर इस से पता चला की वो किसी की गाड़ी में बैठकर उनके साथ गई थी जांच आगे बढ़ी तो हमें पता चला की नरबलि के तहत उनकी हत्या कर दी गई जब शरीर के टुकड़ों को जमीन खोदकर निकाला गया तो पंचायत के नेता सारी लालू वहीं मौजूद थीं वे सरकार की ओर से गवाह के तौर पर वही थी उन्होंने बीबीसी को बताया कि अभियुक्तों ने उस जगह की ओर इशारा किया था इसके बाद पुलिसवालों ने उस जगह की खुदाई करके शव के टुकड़े बरामद कि

दगा वन सिंह और उनकी पत्नी लैला बहुत ही मिलनसार किस्म के थे वो जीस तरह के बदलाव से गुजर रहे थे उसके बारे में कोई सपने में भी नहीं सोच सकता इस खबर को सुनकर हर कोई अचंभित था पुलिस की जांच पड़ताल में जो चीजें निकलकर सामने आई है वो चौंकाने वाली है दो औरतों की हत्या करके उनके शरीर के टुकड़े अलग अलग जगहों पर दफनाए गए थे उन्होंने अपने बगीचे में ही उन्हें गाड़ दिया था पहले तो हम सोच रहे थे कि आखिर पुलिस इन बेगुनाह लोगों को पकड़कर क्यों ले जा रही है? लेकिन जब उनकी हरकत के बारे में पता चला तो ये हमारे लिए चौंकाने वाला था पीड़ितों में से एक का नाम रोज़लीन था वो एरनाकुलम के एक इलाके कलाडी में लॉटरी टिकट बेचा करती थीं उनके रिश्तेदारों का कहना है कि वो पिछले जून से ही गायब थी उनकी बेटी मंजू ने सत्रह अगस्त को एक पुलिस कंप्लेन फाइल की थी, लेकिन उनके लिए एक सदमा इंतज़ार में था कम आकार नगर वनडे जून एट का आधा कप अनार में लगा है मेरी माँ आठ जून से गायब थी मैंने अपनी शिकायत मेल की थी मैं उत्तर प्रदेश में काम करती थी मैं जब लौटकर आई तो मुझे पता चला कि मेरी माँ गायब थी मैंने सत्रह अगस्त को अपनी शिकायत दी थी